नर्स घर जाकर बच्चों को लगाएगी टीका, लॉकडाउन के कारण टीकाकरण नहीं हो सका।

1
36
टीका

लखनऊ बाल टीकाकरण : कोरोना अवधि के दौरान बच्चों के टीकाकरण को बाधित किया गया था। अस्पतालों में सुविधा शुरू होने पर भी कई बच्चे नहीं पहुंच सके। ऐसे में स्वास्थ्य विभाग डोर-टू-डोर सर्वे करेगा। नर्स जाएगी और छूटे हुए बच्चों का टीकाकरण करेगी। कोरोना ने देश में तालाबंदी कर दी और स्वास्थ्य विभाग ने वायरस से निपटना शुरू कर दिया। 22 मार्च को टीकाकरण बंद हो गया। एक माह तक बच्चों का टीकाकरण नहीं हो सका।

अप्रैल के अंत में अस्पतालों में टीकाकरण का आदेश पहुंचा। 4 मई से, राज्य भर के अस्पतालों में टीकाकरण शुरू किया गया था। अस्पतालों में भीड़भाड़ और संक्रमण के कारण, कई माता-पिता अभी भी बच्चों को ले जाने से कतरा रहे हैं। इसके कारण छोटे बच्चों को अन्य बीमारियों का खतरा होता है। इसलिए स्वास्थ्य विभाग ने टीकाकरण से छूटे हुए बच्चों का टीकाकरण कराने का निर्णय लिया है। इसके लिए शहर से लेकर गांवों तक सर्वे कराया जाएगा।


यह भी पढ़ें : अमेठी : डीएम एवं पुलिस अधीक्षक ने जिला कारागार रायबरेली का किया औचक निरीक्षण।


जिले में 15 दिन सर्वे होगा

टीकाकरण अधिकारी और एसीएमओ डॉ. एमके सिंह के मुताबिक, लापता बच्चों की तलाश के लिए एक अक्टूबर से जिले में सर्वेक्षण शुरू होगा। लगभग 617 एएनएम, 2300 आशा और 1600 आंगनवाड़ी कार्यकर्ता घर-घर जाएंगे। 15 अक्टूबर तक गुमशुदा बच्चों का ब्योरा एकत्र किया जाएगा। इसके बाद टीकाकरण का नया शेड्यूल बनाकर टीकाकरण किया जाएगा जो बच्चों में छोड़ा जाएगा।

जिसका टीकाकरण हो जाता है

  • जन्म के बाद: बीसीजी, हेपेटाइटिस, पल्स पोलियो
  • महीने और एक आधा: पेंटावैलेंट, न्यूमोकोकल, रोटावायरस, पल्स पोलियो
  • ढाई महीने: पेंटावैलेंट, रोटावायरस दूसरी खुराक, पल्स पोलियो
  • साढ़े तीन महीने: पेंटावैलेंट, न्यूमोकोकल, रोटावायरस, पल्स पोलियो
  • नौ महीने: खसरा, रूबेला, जेई, विटामिन-ए की खुराक

KGMU : डेंटल रेजिडेंट परीक्षा


यह भी पढ़ें : लखनऊ नगर निगम का बजट : 80 करोड़ से सड़कों और नालियों की सूरत बदल जाएगी, 10 करोड़ रुपये नई सड़कें बनेंगी।


केजीएमयू के डेंटल फैकल्टी में रेजिडेंट डॉक्टर का संकट खत्म हो जाएगा। इसके लिए रविवार को परीक्षा आयोजित की गई थी। एमडीएस पास चिकित्सकों ने कलाम सेंटर में आयोजित परीक्षा में भाग लिया। KGMU में दंत संकाय के नौ विभाग हैं। इसमें ओरल सर्जरी, प्रोस्थोडॉन्टिक्स, पेरियोडोंटिक्स, पेडोडोंटिक्स, ओरल मेडिसिन, ओरल पैथोलॉजी, ऑर्थोडॉन्टिक और कंजर्वेटिव डेंटिस्ट्री में सीनियर रेजिडेंट की 27 सीटें थीं। एमडीएस के पास चिकित्सक ही इसमें भाग ले सकते थे। रविवार को 11 से 12 बजे तक कलाम सेंटर में परीक्षा आयोजित की गई थी। इसमें शारीरिक दूरी का ध्यान रखा गया। सभी नकाबपोश थे। डीन डॉ। अनिल चंद्र के अनुसार, 198 चिकित्सकों ने सीनियर रेजिडेंट की परीक्षा दी। देर शाम परीक्षा परिणाम जारी किया गया।