हाथरस कांड : लखनऊ में सपा का विरोध, जगह-जगह हुए लाठीचार्ज, हिरासत में सभी विधायक।

0
20
लखनऊ

लखनऊ : उत्तर प्रदेश में, समाजवादी पार्टी ने हाथरस और किसान विधेयक के संबंध में शुक्रवार को गांधी जयंती के अवसर पर लखनऊ में एक पैदल मार्च निकाला। पार्टी के नेताओं का लक्ष्य था कि वे हजरतगंज स्थित गांधी प्रतिमा के पास जाएंगे और मौन व्रत का पालन करेंगे और सत्याग्रह करेंगे। विरोध प्रदर्शन को देखते हुए मुख्यमंत्री के चौराहे पर बड़ी संख्या में फोर्स तैनात कर दी गई। उसी समय, विक्रमादित्य मार्ग प्रदर्शन की संभावना के कारण बंद कर दिया गया था। इस दौरान राजभवन की ओर जाने वाली सड़क को भी बंद कर दिया गया था।

पैदल मार्च को बैरिकेडिंग लगाकर पुलिस ने रोका


यह भी पढ़ें : अमेठी : पुलिस अधीक्षक कार्यालय में तीन दिनों की रिपोर्ट तीस दिन में भी नहीं आई।


सुबह सपा के सभी एमएलए और एमएलसी पार्टी कार्यालय पर जुटे और पैदल मार्च शुरू किया। इस दौरान राजभवन चौराहे पर उन्हें पुलिस ने रोक दिया। उधर पुलिस ने बैरिकेडिंग लगाकर गांधी प्रतिमा की तरफ सपा विधायकों के हो रहे मार्च को रोक दिया। इस दौरान नेता विपक्ष राम गोविंद चौधरी और प्रदेश अध्यक्ष नरेश उत्तम पटेल की काफी देर तक पुलिस से नोकझोंक होती रही।

लाठीचार्ज में कई नेता गिरफ्तार

इसके बाद, पुलिस ने सत्याग्रह आंदोलन करने वाले समाजवादी नेताओं और कार्यकर्ताओं पर लाठीचार्ज किया। हजरतगंज चौराहे पर लाठीचार्ज, जीपीओ साथ ही सभी विधायकों को हिरासत में ले लिया गया। समाजवादी पार्टी के लगभग 60 विधायक पहले राजभवन चौराहे पर धरने पर बैठे थे। 1 घंटे के धक्का-मुक्की के बाद सभी विधायकों को हिरासत में लिया गया। इसके बाद, उन्हें इको पार्क भेजा गया। नेता प्रतिपक्ष रामगोविंद चौधरी और सपा प्रदेश अध्यक्ष नरेश उत्तम पटेल को भी गिरफ्तार किया गया है। वहीं, लाठीचार्ज में कई कार्यकर्ता घायल हो गए।


यह भी पढ़ें : इलाहाबाद हाईकोर्ट : यूपी सरकार को नोटिस भेजा, लखनऊ खंडपीठ ने संज्ञान में लिया हाथरस मामला।


दरअसल, सपा नेताओं का हजरतगंज के जीपीओ स्थित बापू की प्रतिमा पर मौन व्रत रखने का कार्यक्रम था। इस मार्च के दौरान प्रदेश अध्यक्ष नरेश उत्तम पटेल, नेता विरोधी दल राम गोविंद चौधरी, विधायक शैलेंद्र यादव ललई, नवाब इकबाल महमूद, सुनील सिंह साजन, उदयवीर सिंह सहित पार्टी के लगभग सभी मौजूदा विधायकों और एमएलसी ने भाग लिया।